एक गुनाह फिर आज किया!

एक गुनाह फिर आज किया!
मैंने किसी से प्यार किया!!
नयन भर के जब उस को ताका....
नज़रों ने उसकी भी, इशारा किया....
ओठ के कॉलर, तान के सीना,
फिर हमने तरी किया.....
" EXCUSE ME... क्या मिले हैं पहले"
दे इस्माइल इश्क का आगाज़ किया......
हुआ जो INTRO बात चली फिर,
mac'dee मैं Pizza से TIME स्पिसे किया....
देख के तुमको कुछ kuchh होता,
फिर दिल ने इजहार किया....
तुम que मैं नम्बर 5, खडे हो,
REPLY उन्होने with PRIDE किया.....
पहले केस वो निपटा लूं, फिर
बारी तुम्हारी आएगी,
नही बुरे तुम भी कुछ ज्यादा,
कुछ इस तरह उन्होने इकरार किया.....
उठा BEG और बाय कहके ,
MADEM ने प्रस्थान किया.....
लुटे पिटे से बैठे सीट पर,
वल्लाह ये कैसा प्यार किया......
एक गुनाह फिर आज किया....
मैंने किसी से प्यार किया.....

...एहसास

1 टिप्पणी:

nitesh ने कहा…

rab bachaye aise pyar se ..
gr8 mukul bhai

धन्यवाद !

एहसासों के सागर मैं कुछ पल साथ रहने के लिए.....!!धन्यवाद!!
पुनः आपके आगमन की प्रतीक्षा मैं .......आपका एहसास!

विशेष : यहाँ प्रकाशित कवितायेँ व टिप्पणिया बिना लेखक की पूर्व अनुमति के कहीं भी व किसी भी प्रकार से प्रकाशित करना या पुनः संपादित कर / काट छाँट कर प्रकाशित करना पूर्णतया वर्जित है!
(c) सर्वाधिकार सुरक्षित 2008