एहसास कहाँ रहता हैं?


एहसासों के अन्तर्मन
एहसास जिया करता हैं!
प्रश्न उठे फ़िर भी हर शब....
एहसास कहाँ रहता हैं!!

जिसको देख के विचलित मन...
बन मोर चहक उठता है!
कभी-कभी वो बदरा भी....
भर-भर के नयन रोता है!!

चांद बिखेरे चाँदनी रातों को...
निकल पड़ता है!
फ़िर भी हर घर-आँगन...
अंधियारा पसरा फिरता है!!

कृति-प्रकृति की, जिसे....
एहसास शब्दों मैं पिरोता है!
उन्ही शब्दों की धार से ख़ुद...
खामोश खडा रोता है!!

साथ खड़ा मानव का मेला...
फ़िर भी,
एकाकी सफर करता है!
जो शाश्वत सत्य, जो लेख अटल...
उस लेख से ही डरता है!!

प्रश्न उठे फ़िर भी हर शब....
एहसास कहाँ रहता हैं!!
एहसास कहाँ रहता हैं!!

.....एहसास!

6 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा ने कहा…

जो हैं दूर एहसासों से
वही पूछा करते है
एहसास कहाँ रहता हैं!!
एहसास कहाँ रहता हैं!!
एहसास तो है मन के अन्दर
कहीं नहीं जाता है
जब होता है मन अनमना
एहसास सो- सा जाता है ............
बहुत मर्मान्तक एहसास,
दिल की गहराइयों तक उतरनेवाले

Supriya Agarwal ने कहा…

ehsaas tumhare ehsaas to pehle se hi kafi achhe hain...ye rachna bhi unme se ek hai....bahut sundar....

Main aur meri Tanhai..... ने कहा…

एहसास... कहा रहता है.. जानना चाहे कोई.. तो नज़रें झुका कर देख.. ले.. हेर उस शख्स के दिल में है एहसास.. जिनके पास एहसास का एक कतरा भी निहित है..... बहुत अच्छा लिखा है.. दोस्त...!

Amma ने कहा…

प्रश्न उठे फ़िर भी हर शब....
एहसास कहाँ रहता हैं!!
अक्सर होता ही ऐसा
जो होता दिल के करीब
हम उनको खोजा करते हैं
शायद होता हैं ये डर
कहीं उसे हम न खो दें !

महामंत्री (तस्लीम ) ने कहा…

भावनाओं की खूबसुरत अभिव्यक्ति। बधाई।
एक निवेदन- कृपया कमेंट बॉक्स से वर्ड वेरीफिकेशन हटा दें, इससे इरीटेशन होती है।

Akshaya-mann ने कहा…

ehesaas akshayke dil mai rheta hai ..
meri manpasand kavita bahut hi sundar.

धन्यवाद !

एहसासों के सागर मैं कुछ पल साथ रहने के लिए.....!!धन्यवाद!!
पुनः आपके आगमन की प्रतीक्षा मैं .......आपका एहसास!

विशेष : यहाँ प्रकाशित कवितायेँ व टिप्पणिया बिना लेखक की पूर्व अनुमति के कहीं भी व किसी भी प्रकार से प्रकाशित करना या पुनः संपादित कर / काट छाँट कर प्रकाशित करना पूर्णतया वर्जित है!
(c) सर्वाधिकार सुरक्षित 2008