फ़साना है एक फ़साना था!

फ़साना है एक फ़साना था!

कैसी ये जिन्दगी, क्या इसके जीने का बहाना था!
क्या हकीकत है जो जी रहे,जो बीत गया वो भी क्या फ़साना था!!
जोश था मुझमे, तान लिए थे पंख,मुझे शितिज को छुके आना था!
हर तूफ़ान को झेला मैंने,पर टूटी वो ही शाख,
जिसपे बनाया मैंने आशियाना था!!

आँखों मैं रहे आंसू,पर राह मैं न रुकना जाना था!
दुनिया हंसती रही हमपे,और हमारी चाहत बस उनके शिकवे मिटाना था!!

साथी बने थे दुश्मन,या दुश्मनो को अपना जाना था!
सितम जो भी करे, हमें तो....हंस के अपना पन निभाना था!!

हारे नहीं खुद से, न ही हालातों का बुरा माना हे!
बस टूट जाता है कभी कभी ये दिल भी,छलकती आँखों से इतना बताना हे!!

खैर बिछा लो कांटे राहों मैं,हमें इन्ही राहों पे लहू से,
अपने क़दमों के निशाँ छोड़ जाना है!
लिख देंगे ऐसी इबारत बल अपने,खुदा भी कहेगा.......वाह!....एहसासों का खूब फ़साना हे!!

.....एहसास!

10 टिप्‍पणियां:

निर्झर'नीर ने कहा…

शितिज को चुके आना था!
तूती वो ही शाख,
हंस की अपना पन निभाना था!!
हरे नहीं खुद से

bahut mistake hai hindi lipi main edit karo plz
ek baar har line ko thiik se padho or sahi karo sara bhaav badal raha hai rachna kaa

EHSAAS ने कहा…

Dhanywaad Nirjhar ji.....apke sujhaw k liye.

anshuja ने कहा…

behatareen rachanaa....badhai

Sonal ने कहा…

bahut hi badiya...

Meri Nayi Kavita par aapke Comments ka intzar rahega.....

A Silent Silence : Zindgi Se Mat Jhagad..

Banned Area News : People in China's big cities feel lonely

sushma 'आहुति' ने कहा…

bhaut hi khubsurat....

somali ने कहा…

bahut khubsurat

स्वाति ने कहा…

kya bat hai....

neelima garg ने कहा…

हर तूफ़ान को झेला मैंने,पर टूटी वो ही शाख,
जिसपे बनाया मैंने आशियाना था!!....very good

Ragini ने कहा…

bahut sundar ehsaas!

प्रेम सरोवर ने कहा…

ahut sundar ehsaas!

धन्यवाद !

एहसासों के सागर मैं कुछ पल साथ रहने के लिए.....!!धन्यवाद!!
पुनः आपके आगमन की प्रतीक्षा मैं .......आपका एहसास!

विशेष : यहाँ प्रकाशित कवितायेँ व टिप्पणिया बिना लेखक की पूर्व अनुमति के कहीं भी व किसी भी प्रकार से प्रकाशित करना या पुनः संपादित कर / काट छाँट कर प्रकाशित करना पूर्णतया वर्जित है!
(c) सर्वाधिकार सुरक्षित 2008