मन की रानी


शब्दों की सेज पे.....

बैठा मैं कलम से पूंछूं!

एहसास के मन की रानी कौन?

इठलाके फ़िर सखीं यूँ बोली......

आ दिखा दूँ रानी, छोड़ के मौन!!



वो खिली-खीली, हंसती इठलाती...

पहली बसंत सी काया!

राज-कामदेव के काम मैं लिपटी...

जिसमे रती का रूप समाया!

ऐसा अप्रितम रूप धरे...

और दूजी होगी कौन?

इठलाके फ़िर सखीं यूँ बोली......
आ दिखा दूँ रानी, छोड़ के मौन!!



आभा चंद्र की से मुख दमका....

चन्द्रिका बनी माथे की बिंदीया!

नयनो मैं लज्जा के हिचकोले...

सुर्ख अधरों मैं मौन शरमाया!

वो चंद्र मुखी घूंघट मैं बैठी...

और दूजी होगी कौन.....?

इठलाके फ़िर सखी यूँ बोली...

आ दिखा दूँ रानी, छोड़ के मौन!!



.....एहसास!

11 टिप्‍पणियां:

masoomshayer ने कहा…

bahut achha vichar dikha

vinodbissa ने कहा…

एहसास जी आपकी रचना '' मन कि रानी बहुत ही शानदार है ........... उच्च स्तरीय है ...... शुभकामनाएं..

ranchi boys ने कहा…

ati sunder .. dil ko choone waali kavita hai...really beautiful

मैं.... ने कहा…

ओह हो भाई मज़ा आ गया... वैसे तो रोज़ ही जागता था.. ये पढ़ के आज जागने के एक वजह मिल गयी...
अब तो दिल करता है पूछ पडूँ..
एहसास के मन की रानी कौन?

Anoop ने कहा…

kisi ne khushi to kisi ne gham kaha
Zindgi ko duniya ne kitna kum kaha!!!!

Gud ke shabdon ke ehsason main lipta "sankhi ka maun"

Maun main kul kul behta, sagar aur

pawan liye khushbu bhini aur saundh.

Ehsas ke ehsason ki is sargam main,
panchi ka kalrav liye is nazm ne:

tode bandhan, tode darpan,
aur layi hai ek
naye suraj ki kiran saumya.

kiran ehsason ki,
kiran vicharon ki,
kiran liye chamk,
jhilmil sitaron ki,

Kiran kehti
"ud, ud asman ke hur kone tuk ud,
khushi aur gham ke kahkashan se ooncha ud".

Badhayiyan.......

Yours.......
Annu

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

khubsurat ehsaas ki khubsurat raani.............

Amma ने कहा…

tumhari kalam ko mera aashirwaad......

desh ने कहा…

पारंपरिक सौंदर्य रस की मिठास ....
अलंकरनो का सुन्दर प्रयोग भी शिल्प को खूबसूरती प्रदान कर रहा है..!!!
अच्छी लगी एहसास की "मन की रानी"..

रश्मि प्रभा ने कहा…

utkrisht rachna.......
gahre arth liye.

kavita malaiya ने कहा…

बहुत ही सुंदर रचना है...मन खुश हो गया..वही ख़ुशी जो कुछ भी सुंदर देखकर होती है...सो इस अनाम ख़ुशी के लिए धन्यवाद

Akshaya-mann ने कहा…

ye ehesaas hi to likh sakta hai bas aur koi bhi nahi
iska ehessas aur koi kar hi nahi sakta bahut hi sundar prastuti bhai....

धन्यवाद !

एहसासों के सागर मैं कुछ पल साथ रहने के लिए.....!!धन्यवाद!!
पुनः आपके आगमन की प्रतीक्षा मैं .......आपका एहसास!

विशेष : यहाँ प्रकाशित कवितायेँ व टिप्पणिया बिना लेखक की पूर्व अनुमति के कहीं भी व किसी भी प्रकार से प्रकाशित करना या पुनः संपादित कर / काट छाँट कर प्रकाशित करना पूर्णतया वर्जित है!
(c) सर्वाधिकार सुरक्षित 2008